रविवार, 30 नवंबर 2014

बच्चे


बच्चे सर्दियों की धुप की तरह होते है
बच्चो को अच्छे से महसूस करना जरूरी है
बच्चो को  प्यार करना जरूरी है
हो सकता है की आपका बच्चा
पढ़ाई लिखाई या किसी कला में बहुत तेज हो
हो सकता है की वो इन सबमे साधारण हो
हो सकता है की आपका बच्चा इनमे से कुछ भी अच्छा ना करता हो
बच्चो से किसी भी अच्छे या  साधारण की उम्मीद , या खराब करने का डर मत पालो 
किसी भी पढ़ाई , खेलकूद या कला में निपुण हो जाने को प्यार का पैमाना मत बनाना
बच्चो को प्यार देने की हर शर्त , बेशर्त होनी चाहिए !



बुधवार, 12 नवंबर 2014

चालू माल

 (सआदत हसन "मंटो" को समर्पित )
------------------------------------------

>> भैय्या एक बेन्सन लाइट सिगरेट का पैक देना
सिगरेट लेकर वो वापस ऑटो की तरफ बढ़ी

पास में दो लड़के सिगरेट पी रहे थे
उसे देख  कर वो दोनों  मुस्कुराये
एक ने आँख मार के बोला। ।

"चालू माल है बेटे "